Posts

Showing posts from October, 2018

सम्राट कनिष्क जाट बादशाह। राजस्थान

गुर्जर महासभा अपना ध्यान इधर लगावे और जाट गुर्जर भाईचारे में की आड़ में जो जाट इतिहास के और जाट राजाओं के सेध लगाई जा रही है उसे बचे और हम आपसे खुली बहस के लिए तैयार हैं.

 संक्षिप्त परिचय- सम्राट कनिष्क का जन्म पेशावर पाकिस्तान में हुआ और मृत्यु 144 ad में हुई दूसरी शताब्दी में कनिश्क़ कुशान कास्वान  जाट वंश भारत में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है.

parents -विमा कद्फिसेस

successor -हुविश्का
predecessor -विमा कद्फिसेस
religion -महायान  Buddhist

race -जाट.

clan -कास्वान.

रामस्वरूप जून के कथन के अनुसार दूसरी शताब्दी का महान नायक भारत में सम्राट कनिष्क कास्वान जाट हुए इनके सेनापति का नाम हागा था जिनके आगे आज जाटों में हगा चौधरियों के नाम पर लगभग डेढ़ सौ गांव हैं जिनमें से 80 गांव तो अकेले मथुरा जिले में है.  उनके पूर्वज मिहिर अर्थार्थ सूर्य को मानने की वजह से सूर्यवंशी भी कहलाते थे. इन्होंने बाद में बौद्ध धर्म मान लिया और इनके टाइम पर ही महायान और हीनयान नाम के दो बौद्ध संप्रदाय बन गए अर्थात बौद्ध धर्म के दो हिस्से हुए थे. इनको पूरी दुनिया युची यायुची या yuti लिखती है और भारत में इन चाइनीस श…

सम्राट कनिष्क जाट बादशाह। राजस्थान

गुर्जर महासभा अपना ध्यान इधर लगावे और जाट गुर्जर भाईचारे में की आड़ में जो जाट इतिहास के और जाट राजाओं के सेध लगाई जा रही है उसे बचे और हम आपसे खुली बहस के लिए तैयार हैं.

 संक्षिप्त परिचय- सम्राट कनिष्क का जन्म पेशावर पाकिस्तान में हुआ और मृत्यु 144 ad में हुई दूसरी शताब्दी में कनिश्क़ कुशान कास्वान  जाट वंश भारत में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है.

parents -विमा कद्फिसेस

successor -हुविश्का
predecessor -विमा कद्फिसेस
religion -महायान  Buddhist

race -जाट.

clan -कास्वान.

रामस्वरूप जून के कथन के अनुसार दूसरी शताब्दी का महान नायक भारत में सम्राट कनिष्क कास्वान जाट हुए इनके सेनापति का नाम हागा था जिनके आगे आज जाटों में हगा चौधरियों के नाम पर लगभग डेढ़ सौ गांव हैं जिनमें से 80 गांव तो अकेले मथुरा जिले में है.  उनके पूर्वज मिहिर अर्थार्थ सूर्य को मानने की वजह से सूर्यवंशी भी कहलाते थे. इन्होंने बाद में बौद्ध धर्म मान लिया और इनके टाइम पर ही महायान और हीनयान नाम के दो बौद्ध संप्रदाय बन गए अर्थात बौद्ध धर्म के दो हिस्से हुए थे. इनको पूरी दुनिया युची यायुची या yuti लिखती है और भारत में इन चाइनीस श…

जयपुर मे महारेली की घोषणा करते हुए हनुमान जी बेनीवाल मीडिया पर।

जयपुर रैल्ली को लेकर हनुमान बेनीवाल जी की मीडिया से प्रेस कांफ्रेंस लाइव
..1-2 दिन में जयपुर महारैली की घोषणा हो जायेगी सारी तैयारियां पूर्ण हो चुकी है। जल्द ही नेताजी जयपुर में प्रेस-काॅन्फ्रेस करके महारैली की घोषणा करेंगे ।।

खींवसर से निर्दलीय #विधायक हनुमान बेनीवाल अब #राजस्थान की राजनीति में बड़ा #धमाका करने जा रहे है। माना जा रहा है कि अब #हनुमान बेनीवाल जल्द ही अपनी पार्टी से पर्दा उठा लेगें साथ ही कई सीटों पर #उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर #देगें।
बगला नं B-7 मे बढी हलचल..
#हनुमान बेनीवाल के जालूपुरा जयपुर मे स्थित #बगला न.B-7 की बढी हलचल और लोगों का जमावड़ा इस बात को और पुख्ता कर रही हैं विधायक #हनुमान बेनीवाल जल्द ही बड़ी घोषणा #करेगें।
#बगला नं B-7 में बने कार्यालय में भी अब दिन रात कार्य चल रहा है। व #कार्यकर्ताओं की लगातार बैठकों का दौर जारी है ।
#अक्टूबर के अन्तिम सप्ताह मे करेगें जयपुर के इतिहास की सबसे #बड़ी रैली।
#विधायक हनुमान बेनीवाल के द्वारा जयपुर में #प्रस्तावित महारैली की तैयारियां भी शुरू कर दी है जो अक्टूबर के #अन्तिम सप्ताह में कर सकते है। जो जयपुर के इतिहास …

राजस्थान मे एक ऐसा मंदिर जहाँ लकवा रोग का होता निशुल्क ईलाज। सात दिनों के अंदर

सन्त चतुरदास जी महाराज के मन्दिर ग्राम बुटाटी में लकवे का इलाज करवाने देश भर से मरीज आते हैं| मन्दिर में नि:शुल्क रहने व खाने की व्यवस्था भी है| लोगों का मानना है कि मंदिर में परिक्रमा लगाने से बीमारी से राहत मिलती है|
राजस्थान की धरती के इतिहास में चमत्कारी के अनेक उदाहरण भरे पड़े हैं| आस्था रखने वाले के लिए आज भी अनेक चमत्कार के उदाहरण मिलते हैं, जिसके सामने विज्ञान भी नतमस्तक है| ऐसा ही उदाहरण नागौर के 40 किलोमीटर दूर स्तिथ ग्राम बुटाटी में देखने को मिलता है। लोगों का मानना है कि जहाँ चतुरदास जी महाराज के मंदिर में लकवे से पीड़ित मरीज का राहत मिलती है।
वर्षों पूर्व हुई बिमारी का भी काफी हद तक इलाज होता है। यहाँ कोई पण्डित महाराज या हकीम नहीं होता ना ही कोई दवाई लगाकर इलाज किया जाता। यहाँ मरीज के परिजन नियमित लगातार 7 मन्दिर की परिक्रमा लगवाते हैं| हवन कुण्ड की भभूति लगाते हैं और बीमारी धीरे-धीरे अपना प्रभाव कम कर देती है| शरीर के अंग जो हिलते डुलते नहीं हैं वह धीरे-धीरे काम करने लगते हैं। लकवे से पीड़ित जिस व्यक्ति की आवाज बन्द हो जाती वह भी धीरे-धीरे बोलने लगता है।
यहाँ अनेक मरीज म…

युवा दिलों की धड़कन व ताकत हनुमान जी बेनीवाल का बड़ा फैसला ।

जयपुर मे होने वाली #किसानहुंकारमहारैली की तैयारियो की रूपरेखा अंतिम चरण मे है, जल्द ही रैली की तिथि घोषणा होगी और रैली मे नई पार्टी की घोषणा विधायक #हनुमानजी_बेनीवाल करेंगे |
रैली की तिथि को लेकर लगातार आप सभी सवाल पूछ रहे है , इसलिए 1-2 दिन धैर्य बनाए रखें!
आप मजबूती से तीसरे मोर्चे की पैरवी करने के लिए आम जन को जागरूक करे | हमें उम्मीद है आप सभी किसी भी तरह की शंका मन मे नही रखते हुए हनुमान बेनीवाल जी द्वारा प्रदेश की जनता को दिए जाने वाले विकल्प पर भरोसा करते हुए राज्य मे उसको मजबूत रूप से सत्ता मे लाएँगे |
और बड़ी मेहनत के साथ राज्य को आगे बढ़ाने का प्रयास करेंगे और उन्हें हमरा साथ मिलना चाहिए  । जय जय राजस्थान जय जय कीसान ऐकता